https://www.smbspineandjointclinic.com
SMBCLINIC SMBCLINIC 5a8d65f17ebc8e0540d8fa49 False 71 4
OK
background image not found
Updates
update image not found

अमेरिका से स्ट्रक्चरल इंटीग्रेषन में डिग्री हासिल करने वाले डाॅ. मुर्तजा एज़ी राजस्थान के अकेल बाॅडी अलाइनमेंट एक्सपर्ट है। वह बिना किसी मषीन के हाथों से फिजीयोथैरेपी (मैन्यूअल थेरपी) देकर स्लिप डिस्क, घुटने में दर्द, अकड़े हुए कंधे (फ्रोजन शाॅल्डर) और गर्दन के दर्द जैसी समस्याओं की बिना किसी दवा और शल्य चिकित्सा के इलाज करते हैं। वे गत आठ वर्षों से फतहपुरा स्थित SMB स्पाइन और ज्वाॅइंट क्लीनिक, उदयपुर में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। स्ट्रक्चरल इंटेग्रेशन (STRUCTURAL INTEGRATION) की प्रक्रिया मानव शरीर के दैहीक और परा दैहीक (भावनात्मक, मनोवैज्ञानिक, आध्यात्मिक और व्यक्तित्व) दोनों का संतुलन करती है। यह सभी लोगों के लिए उपयोगी है, चाहे वे दर्द में हो या ना हो। STRUCTURAL INTEGRATION द्वारा मस्तिष्क के यांत्रिक नियंत्रण (मोटर कंट्राॅल) के हिस्से को मोटर पैटर्न की मदद से ऐक्टिवेटकिया जाता है। संतुलित शरीर रखने के लिए सही शारीरिक आसन एवं कुदरती तौर से चलने के तरीके को सही रखना जरूरी है। डाॅ. एज़ी का कहना है कि प्रत्येक चोट और बीमारी के कारण होने वाला शरीर असंतुलन मानव स्वास्थ्य को प्रभावित करता है। यह मांसपेशियों के असंतुलन, रासायनिक असंतुलन, भावनात्मक असंतुलन या बाहरी पर्यावरण असंतुलन के कारण हो सकता है। अधिकतर अस्थि (हड्डी) सम्बंधित रोग मांसपेशियों के असंतुलन के कारण होते हैं। तो जब मांसपेशियों के संतुलन को सही किया जाएगा तो दर्द जादू की तरह गायब हो जाएगा। स्लिप डिस्क के कारण गर्दन और पीठ के दर्द के साथ हाथ और पैर में दर्द व झनझनहाट का एमआर आई और एक्स-रे जांच के माध्यम से निदान (डाइग्नोसिस) कर बिना किसी मषीन के हाथों से फिजीयोथैरेपी (हाथों के माध्यम से) सफल उपचार किया जाता है। विषेष रूप से स्लीप डिस्क की समस्या के स्तर का पता एमआरआई स्कैन (फिल्म) और क्लीनिकल जांच के माध्यम से लगाया जाता है। भारत में करीब १००० वर्षों और उससे भी पहले से हाथों से (मैन्युअल थैरेपी) का उपयोग इस प्रकार के रोगों के उपचार के लिए किया जा रहा है लेकिन वर्तमान समय में उचित प्रषिक्षण और सटीक तकनीक के साथ इसके उपयोग से चमत्कारिक परिणाम प्राप्त हो रहे हैं। वर्तमान में सायटिक, गर्दन का दर्द, पीठ का दर्द, सर्वाइकल स्पॉन्डिलाइटिस, पीठ और गर्दन में मांसपेशियों में जकड़न, अकड़े हुए कंधे (फ्राॅजन शाॅल्डर), जोड़ों में दर्द, सिर दर्द, कब्ज एवं एसिडिटी, चक्कर आना, सांस फूलना, बर्पिंग (डकार) का सफल इलाज हाथों की तकनीक (मैन्युअल थैरेपी) और स्ट्रक्चरल इंटेग्रेशन (STRUCTURAL INTEGRATION) से किया जाता है। डॉ मुर्तजा ने बताया कि अधिकांश खिलाड़ियों को घुटने और कंधे के लिगमेंट व मसल की इंजरी की समस्या समान्य तौर पर होती है। इसका कारणा मांसपेशियों के असंतुलन है। इसलिए मानव शरीर में सटीक असंतुलन की पहचान करने की जरूरत है और हम न्यूनतम समयावधि में इस प्रकार की चोटों का सफल इलाज कर सकते हैं।

https://www.smbspineandjointclinic.com/latest-update/-/69
2 3
917737600541
false